शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

ग़ज़ल: प्यास का कोई यहाँ हल नहीं होने वाला

प्यास का कोई यहाँ हल नहीं होने वाला
सहरा सहरा है ये बादल नहीं होने वाला
(सहरा = रेगिस्तान)

सायबाँ होंगे कई मेरे सफ़र में लेकिन
कोई साया तिरा आँचल नहीं होने वाला
(सायबाँ=छाया देने वाले)

इश्क़ के दावे मुहब्बत की नुमाइश होगी
कैस जैसा कोई पागल नहीं होने वाला
(कैस=मजनू का असली नाम)

मुझको आँखों में बसाने की ये ज़िद छोड़ भी दे
एक काँटा हूँ मैं काजल नहीं होने वाला

मुझको चौखट की और इक छत की ज़रुरत है बहुत
घर मेरा वरना मुकम्मल नहीं होने वाला

आँख भर देख लो दुनिया के मनाज़िर कि यहाँ
आज दिखता है जो वो कल नहीं होने वाला
(मनाज़िर=नज़ारे)


राजीव भरोल

14 टिप्‍पणियां:

  1. यहाँ प्यास बढ़ती है,
    कहीं कोई गंगा लड़ती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक 27/01/2014 को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।


    उत्तर देंहटाएं
  3. लाजवाब गज़ल है राजीव भई ... हर शेर सुभान अल्ला ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सायबाँ होंगे कई मेरे सफ़र में लेकिन
    कोई साया तिरा आँचल नहीं होने वाला

    मुझको चौखट की और इक छत की ज़रुरत है बहुत
    घर मेरा वरना मुकम्मल नहीं होने वाला

    आँख भर देख लो दुनिया के मनाज़िर कि यहाँ
    आज दिखता है जो वो कल नहीं होने वाला
    वाह आदरणीय राजीव जी एक से बढ़कर एक

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझको आँखों में बसाने की ये ज़िद छोड़ भी दे
    एक काँटा हूँ मैं काजल नहीं होने वाला

    मुझको चौखट की और इक छत की ज़रुरत है बहुत
    घर मेरा वरना मुकम्मल नहीं होने वाला
    खूबसूरत ग़ज़ल हेतु बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यास का कोई यहाँ हल नहीं होने वाला
    सहरा सहरा है ये बादल नहीं होने वाला

    सुबहान अल्लाह! दिल को बड़ा सुकून मिला।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Wah! Raj ji Bahut khoob इश्क़ के दावे मुहब्बत की नुमाइश होगी
    कैस जैसा कोई पागल नहीं होने वाला
    aapki ghazal ka intzar rahega, kab aa rahee hai nayee ghazal?

    उत्तर देंहटाएं
  8. Zindagi Me Do Chize Hamesha Tutne K
    Liye Hi Hoti He!
    ‘SANS’ Or ‘SAATH’..
    Sans Tutne Se To Insaan Ek Hi Bar
    Marta He'
    Par Kisika Saath Tutne Se Insaan Pal-
    Pal Marta He!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@आप की जब थी जरुरत आपने धोखा दिया (नई ऑडियो रिकार्डिंग)

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर ज़ख्म किसी ठोकर की मेहरबानी है ...
    मेरी ज़िंदगी बस एक कहानी है ...
    मिटा देते सनम के दर्द को सीने से ...
    पर ये दर्द ही उसकी आख़री निशानी है .

    उत्तर देंहटाएं

आपको यह पोस्ट कैसी लगी? अपनी पसंद या नापसंद अवश्य बताएं.